bas khatron ki khaatir jaane jaate hain | बस ख़तरों की ख़ातिर जाने जाते हैं - Ahmad Azeem

bas khatron ki khaatir jaane jaate hain
jin raston se ham deewane jaate hain

itni shohrat kaafi hai jeene ke liye
un ki nazaron mein pahchaane jaate hain

himmat waale hijr mein kahte hain ghazlein
jo buzdil hain vo maykhaane jaate hain

roz bujha dete hain khud hi teeli ko
roz tiri tasveer jalane jaate hain

un ko dekh ke poori ghazal ho jaati hai
ham to bas ik sher sunaane jaate hain

बस ख़तरों की ख़ातिर जाने जाते हैं
जिन रस्तों से हम दीवाने जाते हैं

इतनी शोहरत काफ़ी है जीने के लिए
उन की नज़रों में पहचाने जाते हैं

हिम्मत वाले हिज्र में कहते हैं ग़ज़लें
जो बुज़दिल हैं वो मयख़ाने जाते हैं

रोज़ बुझा देते हैं ख़ुद ही तीली को
रोज़ तिरी तस्वीर जलाने जाते हैं

उन को देख के पूरी ग़ज़ल हो जाती है
हम तो बस इक शेर सुनाने जाते हैं

- Ahmad Azeem
0 Likes

Hausla Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ahmad Azeem

As you were reading Shayari by Ahmad Azeem

Similar Writers

our suggestion based on Ahmad Azeem

Similar Moods

As you were reading Hausla Shayari Shayari