khushi hai sab ko ki operation mein khoob nishtar ye chal raha hai | ख़ुशी है सब को कि ऑपरेशन में ख़ूब निश्तर ये चल रहा है - Akbar Allahabadi

khushi hai sab ko ki operation mein khoob nishtar ye chal raha hai
kisi ko is ki khabar nahin hai mareez ka dam nikal raha hai

fana isee rang par hai qaaim falak wahi chaal chal raha hai
shikasta o muntashir hai vo kal jo aaj saanche mein dhal raha hai

ye dekhte ho jo kaasa-e-sar ghuroor-e-ghaflat se kal tha mamloo
yahi badan naaz se paala tha jo aaj mitti mein gal raha hai

samajh ho jis ki baleegh samjhe nazar ho jis ki wasi'a dekhe
abhi yahan khaak bhi udegi jahaan ye qulzum ubal raha hai

kahaan ka sharqi kahaan ka garbi tamaam dukh sukh hai ye masaavi
yahan bhi ik ba-muraad khush hai wahan bhi ik gham se jal raha hai

urooj-e-qaumi zawal-e-qaumi khuda ki qudrat ke hain karishme
hamesha radd-o-badal ke andar ye amr political raha hai

maza hai speech ka dinner mein khabar ye chapati hai pioneer mein
falak ki gardish ke saath hi saath kaam yaaron ka chal raha hai

ख़ुशी है सब को कि ऑपरेशन में ख़ूब निश्तर ये चल रहा है
किसी को इस की ख़बर नहीं है मरीज़ का दम निकल रहा है

फ़ना इसी रंग पर है क़ाइम फ़लक वही चाल चल रहा है
शिकस्ता ओ मुंतशिर है वो कल जो आज साँचे में ढल रहा है

ये देखते हो जो कासा-ए-सर ग़ुरूर-ए-ग़फ़लत से कल था ममलू
यही बदन नाज़ से पला था जो आज मिट्टी में गल रहा है

समझ हो जिस की बलीग़ समझे नज़र हो जिस की वसीअ' देखे
अभी यहाँ ख़ाक भी उड़ेगी जहाँ ये क़ुल्ज़ुम उबल रहा है

कहाँ का शर्क़ी कहाँ का ग़र्बी तमाम दुख सुख है ये मसावी
यहाँ भी इक बा-मुराद ख़ुश है वहाँ भी इक ग़म से जल रहा है

उरूज-ए-क़ौमी ज़वाल-ए-क़ौमी ख़ुदा की क़ुदरत के हैं करिश्मे
हमेशा रद्द-ओ-बदल के अंदर ये अम्र पोलिटिकल रहा है

मज़ा है स्पीच का डिनर में ख़बर ये छपती है पाइनियर में
फ़लक की गर्दिश के साथ ही साथ काम यारों का चल रहा है

- Akbar Allahabadi
1 Like

Akhbaar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Akbar Allahabadi

As you were reading Shayari by Akbar Allahabadi

Similar Writers

our suggestion based on Akbar Allahabadi

Similar Moods

As you were reading Akhbaar Shayari Shayari