nikal paau main kaise us asar se | निकल पाऊँ मैं कैसे उस असर से - Balmohan Pandey

nikal paau main kaise us asar se
mehakte phool jhadte hain nazar se

mohabbat ke safar ke ba'ad khilwat
safar aasaan hai pichhle safar se

gaye the un se tark-e-ishq karne
nazar hat hi na paai us nazar se

dupatte se vo munh dhaanke hue hain
mohabbat ho gai peele color se

khud apne dil se dar lagne laga hai
koi awaaz aati hai udhar se

निकल पाऊँ मैं कैसे उस असर से
महकते फूल झड़ते हैं नज़र से

मोहब्बत के सफ़र के बा'द ख़ल्वत
सफ़र आसान है पिछले सफ़र से

गए थे उन से तर्क-ए-इश्क़ करने
नज़र हट ही न पाई उस नज़र से

दुपट्टे से वो मुँह ढाँके हुए हैं
मोहब्बत हो गई पीले कलर से

ख़ुद अपने दिल से डर लगने लगा है
कोई आवाज़ आती है उधर से

- Balmohan Pandey
5 Likes

Terrorism Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Balmohan Pandey

As you were reading Shayari by Balmohan Pandey

Similar Writers

our suggestion based on Balmohan Pandey

Similar Moods

As you were reading Terrorism Shayari Shayari