gumraah kah ke pehle jo mujh se khafa hue | गुमराह कह के पहले जो मुझ से ख़फ़ा हुए - Hafeez Banarsi

gumraah kah ke pehle jo mujh se khafa hue
aakhir vo mere naqsh-e-qadam par fida hue

ab tak to zindagi se ta'aruf na tha koi
tum se mile to zeest se bhi aashna hue

aisa nahin ki dil hi muqaabil nahin raha
teer-e-nigaah-e-naaz bhi akshar khata hue

meri nazar ne tum ko jamaal-e-aashnaa kiya
mujh ko duaaein do ki tum ik aaina hue

kya hoga is se badh ke koi rabt-e-baahmi
manzil hamaari vo to ham un ka pata hue

ab kya bataayein kis ki nigaahon ki den thi
vo may ki jis ke peete hi ham paarsa hue

sunta hoon ik muqaam-e-ziyaarat hai aaj kal
vo zindagi ka mod jahaan ham juda hue

vo aa gaye davaaye-e-gham-e-jaan liye hue
lo aaj ham bhi qaa'il-e-dast-e-dua hue

kab zindagi ne ham ko nawaaza nahin hafiz
kab ham pe baab-e-lutf-o-inaayat na vaa hue

गुमराह कह के पहले जो मुझ से ख़फ़ा हुए
आख़िर वो मेरे नक़्श-ए-क़दम पर फ़िदा हुए

अब तक तो ज़िंदगी से तआरुफ़ न था कोई
तुम से मिले तो ज़ीस्त से भी आश्ना हुए

ऐसा नहीं कि दिल ही मुक़ाबिल नहीं रहा
तीर-ए-निगाह-ए-नाज़ भी अक्सर ख़ता हुए

मेरी नज़र ने तुम को जमाल-ए-आशना किया
मुझ को दुआएँ दो कि तुम इक आईना हुए

क्या होगा इस से बढ़ के कोई रब्त-ए-बाहमी
मंज़िल हमारी वो तो हम उन का पता हुए

अब क्या बताएँ किस की निगाहों की देन थी
वो मय कि जिस के पीते ही हम पारसा हुए

सुनता हूँ इक मुक़ाम-ए-ज़ियारत है आज कल
वो ज़िंदगी का मोड़ जहाँ हम जुदा हुए

वो आ गए दवाए-ए-ग़म-ए-जाँ लिए हुए
लो आज हम भी क़ाइल-ए-दस्त-ए-दुआ हुए

कब ज़िंदगी ने हम को नवाज़ा नहीं 'हफ़ीज़'
कब हम पे बाब-ए-लुतफ़-ओ-इनायत न वा हुए

- Hafeez Banarsi
1 Like

Aankhein Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Hafeez Banarsi

As you were reading Shayari by Hafeez Banarsi

Similar Writers

our suggestion based on Hafeez Banarsi

Similar Moods

As you were reading Aankhein Shayari Shayari