hamaare ahad ka manzar ajeeb manzar hai | हमारे अहद का मंज़र अजीब मंज़र है - Hafeez Banarsi

hamaare ahad ka manzar ajeeb manzar hai
bahaar chehre pe dil mein khizaan ka daftar hai

na hum-safar na koi naqsh-e-paa na rahbar hai
junoon ki raah mein kuch hai to jaan ka dar hai

har ek lamha humein dar hai toot jaane ka
ye zindagi hai ki bosida kaanch ka ghar hai

isee se ladte hue ek umr beet gai
meri ana hi mere raaste ka patthar hai

tamaam jism hain jis ke khayal mein larzaan
vo teergi ka nahin raushni ka khanjar hai

main ek qatra hoon lekin mera naseeb to dekh
ki be-qaraar mere gham mein ik samundar hai

usi ke peeche ravaan hoon main paagalon ki tarah
vo ek shay jo meri dastaras se baahar hai

isee khayal se milta hai kuch sakoon dil ko
ki na-suboori to is daur ka muqaddar hai

kabhi to is se mulaqaat ki ghadi aaye
jo mere dil mein basa hai jo mere andar hai

uqaab-e-zulm ke panje abhi kahaan toote
abhi to faakhta-e-aman khoon mein tar hai

khuda ki maar ho is jehal-e-aagahi pe hafiz
b-zo'm-e-khud yahan har shakhs ik payambar hai

हमारे अहद का मंज़र अजीब मंज़र है
बहार चेहरे पे दिल में ख़िज़ाँ का दफ़्तर है

न हम-सफ़र ना कोई नक़्श-ए-पा ना रहबर है
जुनूँ की राह में कुछ है तो जान का डर है

हर एक लम्हा हमें डर है टूट जाने का
ये ज़िंदगी है कि बोसीदा काँच का घर है

इसी से लड़ते हुए एक उम्र बीत गई
मिरी अना ही मिरे रास्ते का पत्थर है

तमाम जिस्म हैं जिस के ख़याल में लर्ज़ां
वो तीरगी का नहीं रौशनी का ख़ंजर है

मैं एक क़तरा हूँ लेकिन मिरा नसीब तो देख
कि बे-क़रार मिरे ग़म में इक समुंदर है

उसी के पीछे रवाँ हूँ मैं पागलों की तरह
वो एक शय जो मिरी दस्तरस से बाहर है

इसी ख़याल से मिलता है कुछ सकूँ दिल को
कि ना-सुबूरी तो इस दौर का मुक़द्दर है

कभी तो इस से मुलाक़ात की घड़ी आए
जो मेरे दिल में बसा है जो मेरे अंदर है

उक़ाब-ए-ज़ुल्म के पंजे अभी कहाँ टूटे
अभी तो फ़ाख़्ता-ए-अमन ख़ून में तर है

ख़ुदा की मार हो इस जेहल-ए-आगही पे 'हफ़ीज़'
ब-ज़ो'म-ए-ख़ुद यहाँ हर शख़्स इक पयम्बर है

- Hafeez Banarsi
0 Likes

Dil Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Hafeez Banarsi

As you were reading Shayari by Hafeez Banarsi

Similar Writers

our suggestion based on Hafeez Banarsi

Similar Moods

As you were reading Dil Shayari Shayari