jab bhi tiri yaadon ki chalne lagi purvaai | जब भी तिरी यादों की चलने लगी पुर्वाई - Hafeez Banarsi

jab bhi tiri yaadon ki chalne lagi purvaai
har zakham hua taaza har chot ubhar aayi

is baat pe hairaan hain saahil ke tamaashaai
ik tooti hui kashti har mauj se takraai

maykhaane tak aa pahunchee insaaf ki ruswaai
saaqi se hui laghzish rindon ne saza paai

hangaama hua barpa ik jaam agar toota
dil toot gaye laakhon awaaz nahin aayi

ik raat basar kar len aaraam se deewane
aisa bhi koi wa'da ai jaan-e-shakebaai

kis darja sitam-gar hai ye gardish-e-dauraan bhi
khud aaj tamasha hain kal the jo tamaashaai

kya jaaniye kya gham tha mil kar bhi ye aalam tha
be-khwab rahe vo bhi hum ko bhi na neend aayi

जब भी तिरी यादों की चलने लगी पुर्वाई
हर ज़ख़्म हुआ ताज़ा हर चोट उभर आई

इस बात पे हैराँ हैं साहिल के तमाशाई
इक टूटी हुई कश्ती हर मौज से टकराई

मयख़ाने तक आ पहुँची इंसाफ़ की रुस्वाई
साक़ी से हुई लग़्ज़िश रिंदों ने सज़ा पाई

हंगामा हुआ बरपा इक जाम अगर टूटा
दिल टूट गए लाखों आवाज़ नहीं आई

इक रात बसर कर लें आराम से दीवाने
ऐसा भी कोई वा'दा ऐ जान-ए-शकेबाई

किस दर्जा सितम-गर है ये गर्दिश-ए-दौराँ भी
ख़ुद आज तमाशा हैं कल थे जो तमाशाई

क्या जानिए क्या ग़म था मिल कर भी ये आलम था
बे-ख़्वाब रहे वो भी हम को भी न नींद आई

- Hafeez Banarsi
0 Likes

Khwab Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Hafeez Banarsi

As you were reading Shayari by Hafeez Banarsi

Similar Writers

our suggestion based on Hafeez Banarsi

Similar Moods

As you were reading Khwab Shayari Shayari