jo khat hai shikasta hai jo aks hai toota hai | जो ख़त है शिकस्ता है जो अक्स है टूटा है - Hafeez Banarsi

jo khat hai shikasta hai jo aks hai toota hai
ya husn tira jhoota ya aaina jhoota hai

hum shukr karein kis ka shaaki hon to kis ke hoon
rehzan ne bhi lootaa hai rahbar ne bhi lootaa hai

yaad aaya in aankhon ka paimaan-e-wafa jab bhi
saaghar mere haathon se be-saakhta chhoota hai

har chehre pe likkha hai ik qissaa-e-mazloomi
bedard zamaane ne har shakhs ko lootaa hai

manzil ki tamannaa mein sar-garm-e-safar hain sab
kaun us ke liye roye jo raah mein chhoota hai

allah re hafiz us ka ye zauq-e-khud-aaraai
jab zulf sanwaari hai ik aaina toota hai

जो ख़त है शिकस्ता है जो अक्स है टूटा है
या हुस्न तिरा झूटा या आइना झूटा है

हम शुक्र करें किस का शाकी हों तो किस के हूँ
रहज़न ने भी लूटा है रहबर ने भी लूटा है

याद आया इन आँखों का पैमान-ए-वफ़ा जब भी
साग़र मिरे हाथों से बे-साख़्ता छूटा है

हर चेहरे पे लिक्खा है इक क़िस्सा-ए-मज़लूमी
बेदर्द ज़माने ने हर शख़्स को लूटा है

मंज़िल की तमन्ना में सर-गर्म-ए-सफ़र हैं सब
कौन उस के लिए रोए जो राह में छूटा है

अल्लाह रे 'हफ़ीज़' उस का ये ज़ौक़-ए-ख़ुद-आराई
जब ज़ुल्फ़ सँवारी है इक आइना टूटा है

- Hafeez Banarsi
0 Likes

Motivational Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Hafeez Banarsi

As you were reading Shayari by Hafeez Banarsi

Similar Writers

our suggestion based on Hafeez Banarsi

Similar Moods

As you were reading Motivational Shayari Shayari