jo pardo mein khud ko chhupaaye hue hain | जो पर्दों में ख़ुद को छुपाए हुए हैं - Hafeez Banarsi

jo pardo mein khud ko chhupaaye hue hain
qayamat wahi to uthaaye hue hain

tiri anjuman mein jo aaye hue hain
gham-e-do-jahaan ko bhulaaye hue hain

pahaadon se bhi jo uthaaye na utha
vo baar-e-wafa hum uthaaye hue hain

koi shaam ke waqt aayega lekin
sehar se hum aankhen bichhaaye hue hain

jahaan bijliyaan khud amaan dhundti hain
wahan hum nasheeman banaaye hue hain

ghazal aabroo hai tu urdu zabaan ki
tiri aabroo hum bachaaye hue hain

ye ashaar yun hi nahin dard-aageen
hafiz aap bhi chot khaaye hue hain

जो पर्दों में ख़ुद को छुपाए हुए हैं
क़यामत वही तो उठाए हुए हैं

तिरी अंजुमन में जो आए हुए हैं
ग़म-ए-दो-जहाँ को भुलाए हुए हैं

पहाड़ों से भी जो उठाए न उट्ठा
वो बार-ए-वफ़ा हम उठाए हुए हैं

कोई शाम के वक़्त आएगा लेकिन
सहर से हम आँखें बिछाए हुए हैं

जहाँ बिजलियाँ ख़ुद अमाँ ढूँडती हैं
वहाँ हम नशेमन बनाए हुए हैं

ग़ज़ल आबरू है तू उर्दू ज़बाँ की
तिरी आबरू हम बचाए हुए हैं

ये अशआर यूँ ही नहीं दर्द-आगीं
'हफ़ीज़' आप भी चोट खाए हुए हैं

- Hafeez Banarsi
0 Likes

Duniya Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Hafeez Banarsi

As you were reading Shayari by Hafeez Banarsi

Similar Writers

our suggestion based on Hafeez Banarsi

Similar Moods

As you were reading Duniya Shayari Shayari