koi batlaaye ki ye turfah tamasha kyun hai | कोई बतलाए कि ये तुर्फ़ा तमाशा क्यूँ है - Hafeez Banarsi

koi batlaaye ki ye turfah tamasha kyun hai
aadmi bheed mein rahte hue tanhaa kyun hai

paanv failaaye hue gham ka andhera kyun hai
aa gai subh-e-tamannaa to phir aisa kyun hai

main to ik zarra-e-naacheez hoon aur kuch bhi nahin
vo jo suraj hai mere naam se jalta kyun hai

tujh ko nisbat hai agar naam-e-baraaheem se kuch
aag ko phool samajh aag se darta kyun hai

kaun sa ahad hai jis ahad mein hum jeete hain
dasht to dasht hai dariya yahan pyaasa kyun hai

pee ke bahkega to rusvaai-e-mahfil hogi
vo jo kam-zarf hai maykhaane mein aaya kyun hai

koi aaseb hai ya sirf nigaahon ka fareb
ek saaya mujhe har soo nazar aata kyun hai

yaad kis ki mah-o-khurshid liye aayi hai
shab-e-taareek mein aaj itna ujaala kyun hai

bad-havaasi ka ye aalam kabhi pehle to na tha
hashr se pehle hi ye hashr sa barpa kyun hai

कोई बतलाए कि ये तुर्फ़ा तमाशा क्यूँ है
आदमी भीड़ में रहते हुए तन्हा क्यूँ है

पाँव फैलाए हुए ग़म का अंधेरा क्यूँ है
आ गई सुब्ह-ए-तमन्ना तो फिर ऐसा क्यूँ है

मैं तो इक ज़र्रा-ए-नाचीज़ हूँ और कुछ भी नहीं
वो जो सूरज है मिरे नाम से जलता क्यूँ है

तुझ को निस्बत है अगर नाम-ए-बराहीम से कुछ
आग को फूल समझ आग से डरता क्यूँ है

कौन सा अहद है जिस अहद में हम जीते हैं
दश्त तो दश्त है दरिया यहाँ प्यासा क्यूँ है

पी के बहकेगा तो रुस्वाई-ए-महफ़िल होगी
वो जो कम-ज़र्फ़ है मयख़ाने में आया क्यूँ है

कोई आसेब है या सिर्फ़ निगाहों का फ़रेब
एक साया मुझे हर सू नज़र आता क्यूँ है

याद किस की मह-ओ-ख़ुर्शीद लिए आई है
शब-ए-तारीक में आज इतना उजाला क्यूँ है

बद-हवासी का ये आलम कभी पहले तो न था
हश्र से पहले ही ये हश्र सा बरपा क्यूँ है

- Hafeez Banarsi
1 Like

Dariya Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Hafeez Banarsi

As you were reading Shayari by Hafeez Banarsi

Similar Writers

our suggestion based on Hafeez Banarsi

Similar Moods

As you were reading Dariya Shayari Shayari