kuchh soch ke parwaana mehfil mein jala hoga | कुछ सोच के परवाना महफ़िल में जला होगा - Hafeez Banarsi

kuchh soch ke parwaana mehfil mein jala hoga
shaayad isee marne mein jeene ka maza hoga

har saee-e-tabassum par aansu nikal aaye hain
anjaam-e-tarab-koshi kya jaaniye kya hoga

gumraah-e-mohabbat hoon poocho na meri manzil
har naqsh-e-qadam mera manzil ka pata hoga

kya tera mudaava ho dard-e-shab-e-tanhaai
chup rahiye to barbaadi kahiye to gila hoga

katara ke to jaate ho deewane ke raaste se
deewaana lipt jaaye qadmon se to kya hoga

maykhaane se masjid tak milte hain nukush-e-paa
ya shaikh gaye honge ya rind gaya hoga

farzaanon ka kya kehna har baat pe ladte hain
deewane se deewaana shaayad hi lada hoga

rindon ko hafiz itna samjha de koi ja kar
aapas mein laroge tum wa'iz ka bhala hoga

कुछ सोच के परवाना महफ़िल में जला होगा
शायद इसी मरने में जीने का मज़ा होगा

हर सई-ए-तबस्सुम पर आँसू निकल आए हैं
अंजाम-ए-तरब-कोशी क्या जानिए क्या होगा

गुमराह-ए-मोहब्बत हूँ पूछो न मिरी मंज़िल
हर नक़्श-ए-क़दम मेरा मंज़िल का पता होगा

क्या तेरा मुदावा हो दर्द-ए-शब-ए-तन्हाई
चुप रहिए तो बर्बादी कहिए तो गिला होगा

कतरा के तो जाते हो दीवाने के रस्ते से
दीवाना लिपट जाए क़दमों से तो क्या होगा

मयख़ाने से मस्जिद तक मिलते हैं नुक़ूश-ए-पा
या शैख़ गए होंगे या रिंद गया होगा

फ़र्ज़ानों का क्या कहना हर बात पे लड़ते हैं
दीवाने से दीवाना शायद ही लड़ा होगा

रिंदों को 'हफ़ीज़' इतना समझा दे कोई जा कर
आपस में लड़ोगे तुम वाइ'ज़ का भला होगा

- Hafeez Banarsi
0 Likes

Aansoo Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Hafeez Banarsi

As you were reading Shayari by Hafeez Banarsi

Similar Writers

our suggestion based on Hafeez Banarsi

Similar Moods

As you were reading Aansoo Shayari Shayari