kya jurm hamaara hai bata kyun nahin dete | क्या जुर्म हमारा है बता क्यूँ नहीं देते  - Hafeez Banarsi

kya jurm hamaara hai bata kyun nahin dete
mujrim hain agar hum to saza kyun nahin dete

kya jalwa-e-ma'ani hai dikha kyun nahin dete
deewar-e-hijaabaat gira kyun nahin dete

tum ko to bada naaz-e-masihaai tha yaaro
beemaar hai har shakhs dava kyun nahin dete

kis dasht mein gum ho gaye ahbaab hamaare
hum kaan lagaaye hain sada kyun nahin dete

kam-zarf hain jo pee ke bahut ke hain sar-e-bazm
mehfil se unhen aap utha kyun nahin dete

kyun haath mein larza hai tumhein khauf hai kis ka
hum harf-e-ghalat hain to mita kyun nahin dete

kuch log abhi ishq mein gustaakh bahut hain
aadaab-e-wafa un ko sikha kyun nahin dete

naghma wahi naghma hai utar jaaye jo dil mein
duniya ko hafiz aap bata kyun nahin dete

kis dasht mein gum ho gaye ahbaab hamaare
hum kaan lagaaye hain sada kyun nahin dete

kam-zarf hain jo pee ke bahut ke hain sar-e-bazm
mehfil se unhen aap utha kyun nahin dete

kyun haath mein larza hai tumhein khauf hai kis ka
hum harf-e-ghalat hain to mita kyun nahin dete

kuch log abhi ishq mein gustaakh bahut hain
aadaab-e-wafa un ko sikha kyun nahin dete

naghma wahi naghma hai utar jaaye jo dil mein
duniya ko hafiz aap bata kyun nahin dete

क्या जुर्म हमारा है बता क्यूँ नहीं देते 
मुजरिम हैं अगर हम तो सज़ा क्यूँ नहीं देते 

क्या जल्वा-ए-मअ'नी है दिखा क्यूँ नहीं देते 
दीवार-ए-हिजाबात गिरा क्यूँ नहीं देते 

तुम को तो बड़ा नाज़-ए-मसीहाई था यारो 
बीमार है हर शख़्स दवा क्यूँ नहीं देते 

किस दश्त में गुम हो गए अहबाब हमारे 
हम कान लगाए हैं सदा क्यूँ नहीं देते 

कम-ज़र्फ़ हैं जो पी के बहुत के हैं सर-ए-बज़्म 
महफ़िल से उन्हें आप उठा क्यूँ नहीं देते 

क्यूँ हाथ में लर्ज़ा है तुम्हें ख़ौफ़ है किस का 
हम हर्फ़-ए-ग़लत हैं तो मिटा क्यूँ नहीं देते 

कुछ लोग अभी इश्क़ में गुस्ताख़ बहुत हैं 
आदाब-ए-वफ़ा उन को सिखा क्यूँ नहीं देते 

नग़्मा वही नग़्मा है उतर जाए जो दिल में 
दुनिया को 'हफ़ीज़' आप बता क्यूँ नहीं देते 

किस दश्त में गुम हो गए अहबाब हमारे 
हम कान लगाए हैं सदा क्यूँ नहीं देते 

कम-ज़र्फ़ हैं जो पी के बहुत के हैं सर-ए-बज़्म 
महफ़िल से उन्हें आप उठा क्यूँ नहीं देते 

क्यूँ हाथ में लर्ज़ा है तुम्हें ख़ौफ़ है किस का 
हम हर्फ़-ए-ग़लत हैं तो मिटा क्यूँ नहीं देते

कुछ लोग अभी इश्क़ में गुस्ताख़ बहुत हैं 
आदाब-ए-वफ़ा उन को सिखा क्यूँ नहीं देते 

नग़्मा वही नग़्मा है उतर जाए जो दिल में 
दुनिया को 'हफ़ीज़' आप बता क्यूँ नहीं देते 

- Hafeez Banarsi
3 Likes

Love Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Hafeez Banarsi

As you were reading Shayari by Hafeez Banarsi

Similar Writers

our suggestion based on Hafeez Banarsi

Similar Moods

As you were reading Love Shayari Shayari