raat ka naam savera hi sahi | रात का नाम सवेरा ही सही - Hafeez Banarsi

raat ka naam savera hi sahi
aap kahte hain to aisa hi sahi

kya buraai hai agar dekh len hum
zindagi ek tamasha hi sahi

kuch to kaandhon pe liye hain hum log
apne armaanon ka laashaa hi sahi

peeche hatna humein manzoor nahin
saamne aag ka dariya hi sahi

kya zaroori hai ki main naam bhi luun
mera dushman koi apna hi sahi

aaina dekh ke dar jaata hoon
aaina mera shanaasa hi sahi

mera qad aap se ooncha hai bahut
main hafiz aap ka saaya hi sahi

रात का नाम सवेरा ही सही
आप कहते हैं तो ऐसा ही सही

क्या बुराई है अगर देख लें हम
ज़िंदगी एक तमाशा ही सही

कुछ तो काँधों पे लिए हैं हम लोग
अपने अरमानों का लाशा ही सही

पीछे हटना हमें मंज़ूर नहीं
सामने आग का दरिया ही सही

क्या ज़रूरी है कि मैं नाम भी लूँ
मेरा दुश्मन कोई अपना ही सही

आइना देख के डर जाता हूँ
आइना मेरा शनासा ही सही

मेरा क़द आप से ऊँचा है बहुत
मैं 'हफ़ीज़' आप का साया ही सही

- Hafeez Banarsi
1 Like

Terrorism Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Hafeez Banarsi

As you were reading Shayari by Hafeez Banarsi

Similar Writers

our suggestion based on Hafeez Banarsi

Similar Moods

As you were reading Terrorism Shayari Shayari