sar-e-baam-e-hijr diya bujha to khabar hui | सर-ए-बाम-ए-हिज्र दिया बुझा तो ख़बर हुई - Iftikhar Arif

sar-e-baam-e-hijr diya bujha to khabar hui
sar-e-shaam koi juda hua to khabar hui

mera khush-khiraam bala ka tez-khiraam tha
meri zindagi se chala gaya to khabar hui

mere saare harf tamaam harf azaab the
mere kam-sukhan ne sukhun kiya to khabar hui

koi baat ban ke bigad gai to pata chala
mere bewafa ne karam kiya to khabar hui

mere hum-safar ke safar ki samt hi aur thi
kahi raasta koi gum hua to khabar hui

mere qissa-go ne kahaan kahaan se badhaai baat
mujhe dastaan ka sira mila to khabar hui

na lahu ka mausam-e-rang-rez na dil na main
koi khwaab tha ki bikhar gaya to khabar hui

सर-ए-बाम-ए-हिज्र दिया बुझा तो ख़बर हुई
सर-ए-शाम कोई जुदा हुआ तो ख़बर हुई

मिरा ख़ुश-ख़िराम बला का तेज़-ख़िराम था
मिरी ज़िंदगी से चला गया तो ख़बर हुई

मिरे सारे हर्फ़ तमाम हर्फ़ अज़ाब थे
मिरे कम-सुख़न ने सुख़न किया तो ख़बर हुई

कोई बात बन के बिगड़ गई तो पता चला
मिरे बेवफ़ा ने करम किया तो ख़बर हुई

मिरे हम-सफ़र के सफ़र की सम्त ही और थी
कहीं रास्ता कोई गुम हुआ तो ख़बर हुई

मिरे क़िस्सा-गो ने कहाँ कहाँ से बढ़ाई बात
मुझे दास्ताँ का सिरा मिला तो ख़बर हुई

न लहू का मौसम-ए-रंग-रेज़ न दिल न मैं
कोई ख़्वाब था कि बिखर गया तो ख़बर हुई

- Iftikhar Arif
0 Likes

Shama Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Iftikhar Arif

As you were reading Shayari by Iftikhar Arif

Similar Writers

our suggestion based on Iftikhar Arif

Similar Moods

As you were reading Shama Shayari Shayari