jazb kar lena tajalli rooh ki aadat mein hai | जज़्ब कर लेना तजल्ली रूह की आदत में है - Josh Maleehabadi

jazb kar lena tajalli rooh ki aadat mein hai
husn ko mahfooz rakhna ishq ki fitrat mein hai

mahav ho jaata hoon akshar main ki dushman hoon tira
dilkashi kis darja ai duniya tiri soorat mein hai

uf nikal jaati hai khatre hi ka mauqa kyun na ho
husn se betaab ho jaana meri fitrat mein hai

us ka ik adnaa karishma rooh vo itna ajeeb
aql isti'jaab mein hai falsafa hairat mein hai

noor ka tadka hai dheemi ho chali hai chaandni
hil raha hai dil mera masroof vo zeenat mein hai

जज़्ब कर लेना तजल्ली रूह की आदत में है
हुस्न को महफ़ूज़ रखना इश्क़ की फ़ितरत में है

महव हो जाता हूँ अक्सर मैं कि दुश्मन हूँ तिरा
दिलकशी किस दर्जा ऐ दुनिया तिरी सूरत में है

उफ़ निकल जाती है ख़तरे ही का मौक़ा क्यूँ न हो
हुस्न से बेताब हो जाना मिरी फ़ितरत में है

उस का इक अदना करिश्मा रूह वो इतना अजीब
अक़्ल इस्ति'जाब में है फ़ल्सफ़ा हैरत में है

नूर का तड़का है धीमी हो चली है चाँदनी
हिल रहा है दिल मिरा मसरूफ़ वो ज़ीनत में है

- Josh Maleehabadi
1 Like

Ishq Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Josh Maleehabadi

As you were reading Shayari by Josh Maleehabadi

Similar Writers

our suggestion based on Josh Maleehabadi

Similar Moods

As you were reading Ishq Shayari Shayari