aasmaanon se zyaada zameen par chha raha hai | आसमानों से ज़्यादा ज़मीं पर छा रहा है - Kanor

aasmaanon se zyaada zameen par chha raha hai
husn-e-mahtaab tujhme nazar aa raha hai

teri soorat se roshan ho rahe hai sitaare
tere chashm ka noor falak tak ja raha hai

hone ko to ho sakti hai tabaah duniya
kaan ka ye jhumka kehar dhaa raha hai

kitni waah karun kitna manaauun tujhe
kah de tu bhi jo dil mein aa raha hai

har roz tu kahin na kahin dikhaai deti hai
lihaaza mera har din achha ja raha hai

is mahangaai mein badhe hai daam mohhabb ke
tera haseen hona tujhe naadir bana raha hai

ehsaan kar de ki dil duaayein dega tujhe
yakeen kar de khwaab jo har raat aa raha hai

tere gesu hi rokenge mujhe had karne se
aur badan tera shahad hua ja raha hai

thoda ikhtiyaar kar kanor thoda sambhal
kuch jawaab aane de kya yun bole ja raha hai

आसमानों से ज़्यादा ज़मीं पर छा रहा है
हुस्न-ए-महताब तुझमे नज़र आ रहा है

तेरी सूरत से रोशन हो रहे है सितारे
तेरे चश्म का नूर फ़लक तक जा रहा है

होने को तो हो सकती है तबाह दुनिया
कान का ये झुमका कहर ढा रहा है

कितनी वाह करुँ कितना मनाऊँ तुझे
कह दे तू भी जो दिल में आ रहा है

हर रोज़ तू कहिं न कहिं दिखाई देती है
लिहाज़ा मेरा हर दिन अच्छा जा रहा है

इस महंगाई में बढ़े है दाम मोह्हब्ब के
तेरा हसीन होना तुझे नादिर बना रहा है

ऐहसान कर दे कि दिल दुआएं देगा तुझे
यकीं कर दे ख़्वाब जो हर रात आ रहा है

तेरे गेसू ही रोकेंगे मुझे हद करने से
और बदन तेरा शहद हुआ जा रहा है

थोड़ा इख़्तियार कर 'कनोर' थोड़ा संभल
कुछ जवाब आने दे क्या यूँ बोले जा रहा है

- Kanor
0 Likes

Kamar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Kanor

As you were reading Shayari by Kanor

Similar Writers

our suggestion based on Kanor

Similar Moods

As you were reading Kamar Shayari Shayari