hum chal diye hai wahi apne dil ko chhodkar | हम चल दिए है वहीं अपने दिल को छोड़कर - Kanor

hum chal diye hai wahi apne dil ko chhodkar
usne dekha jab humein mehfil ko chhodkar

lab ain aur zulfein sab uski bemisaal hai
hamne kuch nahi dekha sirf uske til ko chhodkar

vo maarega mujhe usi ke haathon maut hogi
sab jaante hai ye us kaatil ko chhodkar

main main nahi gar tu nahi jo main nahi tu tu nahi
samandar kahaan samandar hai saahil ko chhodkar

hasratein mohlaten nafratein sab kuch hai
sab diya hai ishq mein jaam-e-gil ko chhodkar

ek kharoch par bhi log pareshaani bataate hai
aise kaise aa gaye aap bismil ko chhodkar

kanor tere uske beech ek zamaana aata hai
kehne ko hai tera ghar ek manzil ko chhodkar

हम चल दिए है वहीं अपने दिल को छोड़कर
उसने देखा जब हमें महफ़िल को छोड़कर

लब, ऐन और ज़ुल्फ़ें सब उसकी बेमिसाल है
हमने कुछ नही देखा सिर्फ उसके तिल को छोड़कर

वो मारेगा मुझे उसी के हाथों मौत होगी
सब जानते है ये उस कातिल को छोड़कर

मैं मैं नही ग़र तू नही, जो मैं नही तू तू नही
समंदर कहाँ समंदर है साहिल को छोड़कर

हसरतें मोहलतें नफ़रतें सब कुछ है
सब दिया है इश्क में जाम-ए-गिल को छोड़कर

एक ख़रोंच पर भी लोग परेशानी बताते है
ऐसे कैसे आ गए आप बिस्मिल को छोड़कर

'कनोर' तेरे उसके बीच एक ज़माना आता है
कहने को है तेरा घर एक मंज़िल को छोड़कर

- Kanor
2 Likes

Charagh Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Kanor

As you were reading Shayari by Kanor

Similar Writers

our suggestion based on Kanor

Similar Moods

As you were reading Charagh Shayari Shayari