sharaab jo tere suboo se bat rahi hai | शराब जो तेरे सुबू से बट रही है - Kanor

sharaab jo tere suboo se bat rahi hai
yahi wajah ke ki zindagi kat rahi hai

jaam jo bhar raha hoon main chhalakne tak
sharaab bhi mujhse dar simat rahi hai

ishq tapkata dekh raha hoon main chat se
baadlo se jab bijli lipt rahi hai

tum tab milna jab main hosh mein milun
abhi to meri niyat palat rahi hai

badkhtar badnaseeb baadiya kaho mujhe
mere haathon se lakeeren ghat rahi hai

tum dekh lo pehle ya hum dekh le
saath me dekhne se nigahe hat rahi hai

tumhe dekh kar to barpa hua main bhi
aasmaan jal raha hai zami bhi phat rahi hai

शराब जो तेरे सुबू से बट रही है
यही वजह के कि ज़िंदगी कट रही है

जाम जो भर रहा हूँ मैं छलकने तक
शराब भी मुझसे डर सिमट रही है

इश्क टपकता देख रहा हूँ मैं छत से
बादलो से जब बिजली लिपट रही है

तुम तब मिलना जब मैं होश में मिलूं
अभी तो मेरी नियत पलट रही है

बदख्तर बदनसीब बादिया कहो मुझे
मेरे हाथों से लकीरें घट रही है

तुम देख लो पहले या हम देख ले
साथ मे देखने से निगाहे हट रही है

तुम्हे देख कर तो बरपा हुआ मैं भी
आसमां जल रहा है ज़मी भी फट रही है

- Kanor
0 Likes

Aasman Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Kanor

As you were reading Shayari by Kanor

Similar Writers

our suggestion based on Kanor

Similar Moods

As you were reading Aasman Shayari Shayari