koi deewaana kehta hai koi paagal samajhta hai | कोई दीवाना कहता है कोई पागल समझता है - Kumar Vishwas

koi deewaana kehta hai koi paagal samajhta hai
magar dharti ki bechaini ko bas baadal samajhta hai

main tujhse door kaisa hoon tu mujhse door kaisi hai
ye tera dil samajhta hai ya mera dil samajhta hai

mohabbat ek ahsaason ki paawan si kahaani hai
kabhi kabira deewaana tha kabhi meera deewani hai

yahan sab log kahte hain meri aankhon mein aansu hain
jo tu samjhe to moti hai jo na samjhe to paani hai

samandar peer ka andar hai lekin ro nahin saka
yah aansu pyaar ka moti hai isko kho nahin saka

meri chaahat ko dulhan tu bana lena magar sun le
jo mera ho nahin paaya vo tera ho nahin saka

कोई दीवाना कहता है कोई पागल समझता है
मगर धरती की बेचैनी को बस बादल समझता है

मैं तुझसे दूर कैसा हूँ तू मुझसे दूर कैसी है
ये तेरा दिल समझता है या मेरा दिल समझता है

मोहब्बत एक अहसासों की पावन सी कहानी है
कभी कबिरा दीवाना था कभी मीरा दीवानी है

यहाँ सब लोग कहते हैं मेरी आंखों में आँसू हैं
जो तू समझे तो मोती है जो ना समझे तो पानी है

समंदर पीर का अन्दर है लेकिन रो नहीं सकता
यह आँसू प्यार का मोती है इसको खो नहीं सकता

मेरी चाहत को दुल्हन तू बना लेना मगर सुन ले
जो मेरा हो नहीं पाया वो तेरा हो नहीं सकता

- Kumar Vishwas
52 Likes

Chaahat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Kumar Vishwas

As you were reading Shayari by Kumar Vishwas

Similar Writers

our suggestion based on Kumar Vishwas

Similar Moods

As you were reading Chaahat Shayari Shayari