bharat ke ai saputo himmat dikhaaye jaao | भारत के ऐ सपूतो हिम्मत दिखाए जाओ - Lal Chand Falak

bharat ke ai saputo himmat dikhaaye jaao
duniya ke dil pe apna sikka bithaaye jaao
murda-dili ka jhanda fenko zameen par tum
zinda-dili ka har-soo parcham udaaye jaao
laao na bhool kar bhi dil mein khayal-e-pasti
khush-haali-e-watan ka beda uthaaye jaao
tan-man mitaaye jaao tum naam-e-qaumiyat par
raah-e-watan mein apni jaanen ladaaye jaao
kam-himmati ka dil se naam-o-nishaan mita do
jurat ka lauh-e-dil par naqsha jamaaye jaao
ai hinduo musalmaan aapas mein in dinon tum
nafrat ghataaye jaao ulfat badhaaye jaao
bikram ki raaj-neeti akbar ki policy ki
saare jahaan ke dil par azmat bithaaye jaao
jis kashmakash ne tum ko hai is qadar mitaaya
tum se ho jis qadar tum us ko mitaaye jaao
jin khaana-jangiyon ne ye din tumhein dikhaaye
ab un ki yaad apne dil mein bhulaaye jaao
be-khauf gaaye jaao hindostaan hamaara
aur vande-maatram ke naare lagaaye jaao
jin desh sevako se haasil hai faiz tum ko
in desh sevako ki jay jay manaae jaao
jis mulk ka ho khaate din raat aab-o-daana
us malak par saroon ki bheten chadaaye jaao
faansi ka jail ka dar dil se falak mita kar
ghairoon ke munh pe sacchi baatein sunaate jaao

भारत के ऐ सपूतो हिम्मत दिखाए जाओ
दुनिया के दिल पे अपना सिक्का बिठाए जाओ
मुर्दा-दिली का झंडा फेंको ज़मीन पर तुम
ज़िंदा-दिली का हर-सू परचम उड़ाए जाओ
लाओ न भूल कर भी दिल में ख़याल-ए-पस्ती
ख़ुश-हाली-ए-वतन का बेड़ा उठाए जाओ
तन-मन मिटाए जाओ तुम नाम-ए-क़ौमीयत पर
राह-ए-वतन में अपनी जानें लड़ाए जाओ
कम-हिम्मती का दिल से नाम-ओ-निशाँ मिटा दो
जुरअत का लौह-ए-दिल पर नक़्शा जमाए जाओ
ऐ हिंदूओ मुसलमाँ आपस में इन दिनों तुम
नफ़रत घटाए जाओ उल्फ़त बढ़ाए जाओ
'बिक्रम' की राज-नीती 'अकबर' की पॉलीसी की
सारे जहाँ के दिल पर अज़्मत बिठाए जाओ
जिस कश्मकश ने तुम को है इस क़दर मिटाया
तुम से हो जिस क़दर तुम उस को मिटाए जाओ
जिन ख़ाना-जंगियों ने ये दिन तुम्हें दिखाए
अब उन की याद अपने दिल में भुलाए जाओ
बे-ख़ौफ़ गाए जाओ ''हिन्दोस्ताँ हमारा''
और ''वंदे-मातरम'' के नारे लगाए जाओ
जिन देश सेवकों से हासिल है फ़ैज़ तुम को
इन देश सेवकों की जय जय मनाए जाओ
जिस मुल्क का हो खाते दिन रात आब-ओ-दाना
उस मलक पर सरों की भेटें चढ़ाए जाओ
फाँसी का जेल का डर दिल से 'फ़लक' मिटा कर
ग़ैरों के मुँह पे सच्ची बातें सुनाते जाओ

- Lal Chand Falak
14 Likes

Terrorism Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Lal Chand Falak

As you were reading Shayari by Lal Chand Falak

Similar Writers

our suggestion based on Lal Chand Falak

Similar Moods

As you were reading Terrorism Shayari Shayari