aaghaaz to hota hai anjaam nahin hota | आग़ाज़ तो होता है अंजाम नहीं होता - Meena Kumari

aaghaaz to hota hai anjaam nahin hota
jab meri kahaani mein vo naam nahin hota

jab zulf ki kaalk mein ghul jaaye koi raahi
badnaam sahi lekin gumnaam nahin hota

hans hans ke jawaan dil ke hum kyun na chunen tukde
har shakhs ki qismat mein inaam nahin hota

dil tod diya us ne ye kah ke nigaahon se
patthar se jo takraaye vo jaam nahin hota

din doobe hai ya doobebaaraat liye kashti
saahil pe magar koi kohraam nahin hota

आग़ाज़ तो होता है अंजाम नहीं होता
जब मेरी कहानी में वो नाम नहीं होता

जब ज़ुल्फ़ की कालक में घुल जाए कोई राही
बदनाम सही लेकिन गुमनाम नहीं होता

हँस हँस के जवाँ दिल के हम क्यूँ न चुनें टुकड़े
हर शख़्स की क़िस्मत में इनाम नहीं होता

दिल तोड़ दिया उस ने ये कह के निगाहों से
पत्थर से जो टकराए वो जाम नहीं होता

दिन डूबे है या डूबेबारात लिए कश्ती
साहिल पे मगर कोई कोहराम नहीं होता

- Meena Kumari
1 Like

Zulf Shayari

Our suggestion based on your choice

Similar Writers

our suggestion based on Meena Kumari

Similar Moods

As you were reading Zulf Shayari Shayari