doosri baaton mein hum ko ho gaya ghaata bahut | दूसरी बातों में हम को हो गया घाटा बहुत - Shuja Khavvar

doosri baaton mein hum ko ho gaya ghaata bahut
warna fikr-e-sher ko do waqt ka aataa bahut

kaayenaat aur zaat mein kuch chal rahi hai aaj kal
jab se andar shor hai baahar hai sannaata bahut

aarzoo ka shor barpa hijr ki raaton mein tha
vasl ki shab to hua jaata hai sannaata bahut

hum se to ik sher sun kar falsafi chup ho gaya
lekin us ne be-zabaan naqqaad ko chaata bahut

dil ki baatein doosron se mat kaho loot jaaoge
aaj kal izhaar ke dhundhe mein hai ghaata bahut

दूसरी बातों में हम को हो गया घाटा बहुत
वर्ना फ़िक्र-ए-शेर को दो वक़्त का आटा बहुत

काएनात और ज़ात में कुछ चल रही है आज कल
जब से अंदर शोर है बाहर है सन्नाटा बहुत

आरज़ू का शोर बरपा हिज्र की रातों में था
वस्ल की शब तो हुआ जाता है सन्नाटा बहुत

हम से तो इक शेर सुन कर फ़लसफ़ी चुप हो गया
लेकिन उस ने बे-ज़बाँ नक़्क़ाद को चाटा बहुत

दिल की बातें दूसरों से मत कहो लुट जाओगे
आज कल इज़हार के धंधे में है घाटा बहुत

- Shuja Khavvar
1 Like

Valentine Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Shuja Khavvar

As you were reading Shayari by Shuja Khavvar

Similar Writers

our suggestion based on Shuja Khavvar

Similar Moods

As you were reading Valentine Shayari Shayari