us ko na khayal aaye to ham munh se kahein kya | उस को न ख़याल आए तो हम मुँह से कहें क्या - Shuja Khavvar

us ko na khayal aaye to ham munh se kahein kya
vo bhi to mile ham se humeen us se milen kya

lashkar ko bachaayengi ye do-chaar safen kya
aur un mein bhi har shakhs ye kehta hai hamein kya

ye to sabhi kahte hain koi fikr na karna
ye koi bataata nahin ham ko ki karein kya

ghar se to chale aate hain bazaar ki jaanib
bazaar mein ye sochte firte hain ki len kya

aankhon ko kiye band pade rahte hain ham log
is par bhi to khwaabon se hain mahroom karein kya

do chaar nahin saikdon sher us pe kahe hain
is par bhi vo samjhe na to qadmon pe jhukein kya

jismaani taalluq pe ye sharmindagi kaisi
aapas mein badan kuchh bhi karein is se hamein kya

khwaabon se bhi milte nahin haalaat ke dar se
maathe se badi ho gaeein yaaro shikne kya

उस को न ख़याल आए तो हम मुँह से कहें क्या
वो भी तो मिले हम से हमीं उस से मिलें क्या

लश्कर को बचाएँगी ये दो-चार सफ़ें क्या
और उन में भी हर शख़्स ये कहता है हमें क्या

ये तो सभी कहते हैं कोई फ़िक्र न करना
ये कोई बताता नहीं हम को कि करें क्या

घर से तो चले आते हैं बाज़ार की जानिब
बाज़ार में ये सोचते फिरते हैं कि लें क्या

आँखों को किए बंद पड़े रहते हैं हम लोग
इस पर भी तो ख़्वाबों से हैं महरूम करें क्या

दो चार नहीं सैंकड़ों शेर उस पे कहे हैं
इस पर भी वो समझे न तो क़दमों पे झुकें क्या

जिस्मानी तअल्लुक़ पे ये शर्मिंदगी कैसी
आपस में बदन कुछ भी करें इस से हमें क्या

ख़्वाबों से भी मिलते नहीं हालात के डर से
माथे से बड़ी हो गईं यारो शिकनें क्या

- Shuja Khavvar
3 Likes

Khyaal Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Shuja Khavvar

As you were reading Shayari by Shuja Khavvar

Similar Writers

our suggestion based on Shuja Khavvar

Similar Moods

As you were reading Khyaal Shayari Shayari