Amaan Rizvi

Amaan Rizvi

इस तरह रहता हूं बेख़ौफ़ शहर-ए-दुश्मन में
जिस तरह दरमियां दातों के ज़बाँ रहती है

  • Sher
  • Ghazal

LOAD MORE

More Writers like Amaan Rizvi

How's your Mood?

Latest Blog

Upcoming Festivals