Ejaaz Ahamd Ejaaz

Ejaaz Ahamd Ejaaz

@ejaaz-ahamd-ejaaz

Ejaaz Ahamd Ejaaz shayari collection includes sher, ghazal and nazm available in Hindi and English. Dive in Ejaaz Ahamd Ejaaz's shayari and don't forget to save your favorite ones.

Followers

0

Content

11

Likes

0

Shayari
Audios
  • Ghazal
  • Nazm
फ़लक पे शाम ढले जो चमकने लगते हैं
वो तेरी आँखों में आ कर दमकने लगते हैं

सुकूत-ए-शब मैं तिरा नाम जब भी लेता हूँ
सहीफ़े इश्क़ के दिल पर उतरने लगते हैं

ग़मों की काली घटाओं को चीर कर जानाँ
तिरी तजल्ली के सूरज दहकने लगते हैं

चमन चमन में खिले फूल ले के नाम तिरा
तसव्वुरात के गुलशन महकने लगते हैं

तिरी सदाओं के घुंघरू फ़ज़ा में यूँ छनके
कि जैसे बाग़ में बुलबुल चहकने लगते हैं

तू बे-इरादा भी जब ज़ुल्फ़ अपनी झटकाए
सुलगते दश्त पे बादल बरसने लगते हैं

तू जान तोड़ के लेती है जब भी अंगड़ाई
ख़ुतूत-ए-जिस्म ख़ला में उभरने लगते लगते हैं

तिरे जुनूँ का भी 'एजाज़' क्या मुदावा हो
कि छील लेते हो जब ज़ख़्म भरने लगते हैं
Read Full
Ejaaz Ahamd Ejaaz