ab ke saal poonam mein jab tu aayegi milne | अब के साल पूनम में, जब तू आएगी मिलने - Zafar Gorakhpuri

ab ke saal poonam mein jab tu aayegi milne
hum ne soch rakha hai raat yun guzaarenge
dhadkanein bichha denge shokh tere qadmon pe
hum nigaahon se teri aarti utaarenge

tu ki aaj qaateel hai phir bhi raahat-e-dil hai
zahar ki nadi hai tu phir bhi qeemti hai tu
past hausale waale tera saath kya denge
zindagi idhar aa ja hum tujhe guzaarenge

aahani kaleje ko zakham ki zaroorat hai
ungliyon se jo tapke us lahu ki haazat hai
aap zulf-e-jaanaan ke kham sanwaariye sahab
zindagi ki zulfon ko aap kya sanwaarenge

hum to waqt hain pal hain tez gaam ghadiyan hain
bekaraar lamhe hain bethakaan sadiyaan hain
koi saath mein apne aaye ya nahin aaye
jo milega raaste mein hum use pukaarenge

अब के साल पूनम में, जब तू आएगी मिलने
हम ने सोच रखा है रात यूँ गुज़ारेंगे
धड़कनें बिछा देंगे शोख़ तेरे क़दमों पे
हम निगाहों से तेरी आरती उतारेंगे

तू कि आज क़ातिल है, फिर भी राहत-ए-दिल है
ज़हर की नदी है तू, फिर भी क़ीमती है तू
पस्त हौसले वाले तेरा साथ क्या देंगे
ज़िन्दगी इधर आ जा, हम तुझे गुज़ारेंगे

आहनी कलेजे को, ज़ख़्म की ज़रूरत है
उँगलियों से जो टपके, उस लहू की हाज़त है
आप ज़ुल्फ़-ए-जानां के, ख़म सँवारिए साहब
ज़िन्दगी की ज़ुल्फ़ों को आप क्या सँवारेंगे

हम तो वक़्त हैं पल हैं, तेज़ गाम घड़ियाँ हैं
बेकरार लमहे हैं, बेथकान सदियाँ हैं
कोई साथ में अपने, आए या नहीं आए
जो मिलेगा रस्ते में हम उसे पुकारेंगे

- Zafar Gorakhpuri
1 Like

Relationship Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Zafar Gorakhpuri

As you were reading Shayari by Zafar Gorakhpuri

Similar Writers

our suggestion based on Zafar Gorakhpuri

Similar Moods

As you were reading Relationship Shayari Shayari