jitne apne the sab paraaye the | जितने अपने थे सब पराए थे - Rahat Indori

jitne apne the sab paraaye the
ham hawa ko gale lagaaye the

jitni qasmen thi sab theen sharminda
jitne vaade the sar jhukaaye the

jitne aansu the sab the begaane
jitne mehmaan the bin bulaaye the

sab kitaaben padhi padhaai theen
saare qisse sune sunaaye the

ek banjar zameen ke seene mein
maine kuchh aasmaan ugaae the

varna auqaat kya thi saayo kii
dhoop ne hausale badhaaye the

sirf do ghoont pyaas kii khaatir
umr bhar dhoop mein nahaaye the

haashie par khade hue hain ham
ham ne khud haashie banaaye the

main akela udaas baitha tha
shaam ne qahqahe lagaaye the

hai ghalat us ko bewafa kehna
ham kahaan ke dhule dhulaaye the

aaj kaanton bhara muqaddar hai
ham ne gul bhi bahut khilaaye the

जितने अपने थे सब पराए थे
हम हवा को गले लगाए थे

जितनी क़समें थी सब थीं शर्मिंदा
जितने वादे थे सर झुकाए थे

जितने आँसू थे सब थे बेगाने
जितने मेहमाँ थे बिन बुलाए थे

सब किताबें पढ़ी पढ़ाई थीं
सारे क़िस्से सुने सुनाए थे

एक बंजर ज़मीं के सीने में
मैंने कुछ आसमाँ उगाए थे

वरना औक़ात क्या थी सायों की
धूप ने हौसले बढ़ाए थे

सिर्फ़ दो घूँट प्यास की ख़ातिर
उम्र भर धूप में नहाए थे

हाशिए पर खड़े हुए हैं हम
हम ने ख़ुद हाशिए बनाए थे

मैं अकेला उदास बैठा था
शाम ने क़हक़हे लगाए थे

है ग़लत उस को बेवफ़ा कहना
हम कहाँ के धुले धुलाए थे

आज काँटों भरा मुक़द्दर है
हम ने गुल भी बहुत खिलाए थे

- Rahat Indori
4 Likes

More by Rahat Indori

As you were reading Shayari by Rahat Indori

Similar Writers

our suggestion based on Rahat Indori

Similar Moods

As you were reading undefined Shayari