dil mein ujle kaaghaz par hum kaisa geet likhen | दिल में उजले काग़ज पर हम कैसा गीत लिखें - Rahi Masoom Raza

dil mein ujle kaaghaz par hum kaisa geet likhen
bolo tum ko gair likhen ya apna meet likhen

neele ambar ki anganaai mein taaron ke phool
mere pyaase honthon par hain angaaron ke phool
in phoolon ko aakhir apni haar ya jeet likhen

koi puraana sapna de do aur kuch meethe bol
lekar hum nikle hain apni aankhon ke kash-kol
hum banjaare preet ke maare kya sangeet likhen

shaam khadi hai ek chameli ke pyaale mein shabnam
jamuna jee ki ungli pakde khel raha hai madhuban
aise mein ganga jal se radha ki preet likhen

दिल में उजले काग़ज पर हम कैसा गीत लिखें
बोलो तुम को गैर लिखें या अपना मीत लिखें

नीले अम्बर की अंगनाई में तारों के फूल
मेरे प्यासे होंठों पर हैं अंगारों के फूल
इन फूलों को आख़िर अपनी हार या जीत लिखें

कोई पुराना सपना दे दो और कुछ मीठे बोल
लेकर हम निकले हैं अपनी आंखों के कश-कोल
हम बंजारे प्रीत के मारे क्या संगीत लिखें

शाम खड़ी है एक चमेली के प्याले में शबनम
जमुना जी की उंगली पकड़े खेल रहा है मधुबन
ऐसे में गंगा जल से राधा की प्रीत लिखें

- Rahi Masoom Raza
0 Likes

Shaam Shayari

Our suggestion based on your choice

Similar Writers

our suggestion based on Rahi Masoom Raza

Similar Moods

As you were reading Shaam Shayari Shayari