ghar ki buniyaadein deewarein baam-o-dar the baabu jee | घर की बुनियादें दीवारें बाम-ओ-दर थे बाबू जी - Aalok Shrivastav

ghar ki buniyaadein deewarein baam-o-dar the baabu jee
sab ko baandh ke rakhne waala khaas hunar the baabu jee

teen mohallon mein un jaisi qad kaathee ka koi na tha
achhe-khaase unche poore qad-aavar the baabu jee

ab to us soone maathe par kore-pan ki chadar hai
amma jee ki saari saj-dhaj sab zewar the baabu jee

bheetar se khaalis jazbaati aur oopar se theth pitaa
alag anootha anbuujha sa ik tevar the baabu jee

kabhi bada sa haath-kharch the kabhi hatheli ki soojan
mere man ka aadha saahas aadha dar the baabu jee

घर की बुनियादें दीवारें बाम-ओ-दर थे बाबू जी
सब को बाँध के रखने वाला ख़ास हुनर थे बाबू जी

तीन मोहल्लों में उन जैसी क़द काठी का कोई न था
अच्छे-ख़ासे ऊँचे पूरे क़द-आवर थे बाबू जी

अब तो उस सूने माथे पर कोरे-पन की चादर है
अम्मा जी की सारी सज-धज सब ज़ेवर थे बाबू जी

भीतर से ख़ालिस जज़्बाती और ऊपर से ठेठ पिता
अलग अनूठा अनबूझा सा इक तेवर थे बाबू जी

कभी बड़ा सा हाथ-ख़र्च थे कभी हथेली की सूजन
मेरे मन का आधा साहस आधा डर थे बाबू जी

- Aalok Shrivastav
2 Likes

Education Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Aalok Shrivastav

As you were reading Shayari by Aalok Shrivastav

Similar Writers

our suggestion based on Aalok Shrivastav

Similar Moods

As you were reading Education Shayari Shayari