Majrooh Sultanpuri

Majrooh Sultanpuri

मैं अकेला ही चला था जानिब-ए-मंज़िल मगर
लोग साथ आते गए और कारवाँ बनता गया

  • Sher
  • Ghazal

LOAD MORE

More Writers like Majrooh Sultanpuri

How's your Mood?

Latest Blog

Upcoming Festivals