khala ke jaisa koi darmiyaan bhi padta | ख़ला के जैसा कोई दरमियान भी पड़ता - Abhishek shukla

khala ke jaisa koi darmiyaan bhi padta
phir is safar mein kahi aasmaan bhi padta

main chot kar to raha hoon hawa ke maathe par
maza to jab tha ki koi nishaan bhi padta

ajeeb khwaahishein uthati hain is kharaabe mein
guzar rahe hain to apna makaan bhi padta

humeen jahaan ke peeche pade rahein kab tak
hamaare peeche kabhi ye jahaan bhi padta

ye ik kami ki jo ab zindagi si lagti hai
hamaari dhoop mein vo saayebaan bhi padta

har ek roz isee zindagi ki tayyaari
so chahte hain kabhi imtihaan bhi padta

ख़ला के जैसा कोई दरमियान भी पड़ता
फिर इस सफ़र में कहीं आसमान भी पड़ता

मैं चोट कर तो रहा हूँ हवा के माथे पर
मज़ा तो जब था कि कोई निशान भी पड़ता

अजीब ख़्वाहिशें उठती हैं इस ख़राबे में
गुज़र रहे हैं तो अपना मकान भी पड़ता

हमीं जहान के पीछे पड़े रहें कब तक
हमारे पीछे कभी ये जहान भी पड़ता

ये इक कमी कि जो अब ज़िंदगी सी लगती है
हमारी धूप में वो साएबान भी पड़ता

हर एक रोज़ इसी ज़िंदगी की तय्यारी
सो चाहते हैं कभी इम्तिहान भी पड़ता

- Abhishek shukla
2 Likes

Zindagi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Abhishek shukla

As you were reading Shayari by Abhishek shukla

Similar Writers

our suggestion based on Abhishek shukla

Similar Moods

As you were reading Zindagi Shayari Shayari