aap ko chehre se bhi beemaar hona chahiye | आप को चेहरे से भी बीमार होना चाहिए - Munawwar Rana

aap ko chehre se bhi beemaar hona chahiye
ishq hai to ishq ka izhaar hona chahiye

aap dariya hain to phir is waqt hum khatre mein hain
aap kashti hain to hum ko paar hona chahiye

aire-ghaire log bhi padhne lage hain in dinon
aap ko aurat nahin akhbaar hona chahiye

zindagi tu kab talak dar-dar phiraayegi humein
toota-foota hi sahi ghar-baar hona chahiye

apni yaadon se kaho ik din ki chhutti de mujhe
ishq ke hisse mein bhi itwaar. hona chahiye

आप को चेहरे से भी बीमार होना चाहिए
इश्क़ है तो इश्क़ का इज़हार होना चाहिए

आप दरिया हैं तो फिर इस वक़्त हम ख़तरे में हैं
आप कश्ती हैं तो हम को पार होना चाहिए

ऐरे-ग़ैरे लोग भी पढ़ने लगे हैं इन दिनों
आप को औरत नहीं अख़बार होना चाहिए

ज़िंदगी तू कब तलक दर-दर फिराएगी हमें
टूटा-फूटा ही सही घर-बार होना चाहिए

अपनी यादों से कहो इक दिन की छुट्टी दे मुझे
इश्क़ के हिस्से में भी इतवार होना चाहिए

- Munawwar Rana
6 Likes

Valentine Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Munawwar Rana

As you were reading Shayari by Munawwar Rana

Similar Writers

our suggestion based on Munawwar Rana

Similar Moods

As you were reading Valentine Shayari Shayari