kisi gareeb ki barson ki aarzoo ho jaaun | किसी ग़रीब की बरसों की आरज़ू हो जाऊँ - Munawwar Rana

kisi gareeb ki barson ki aarzoo ho jaaun
main is surang se nikloon tu aab-joo ho jaaun

bada haseen taqaddus hai us ke chehre par
main us ki aankhon mein jhaankoon to ba-wazoo ho jaaun

mujhe pata to chale mujh mein aib hain kya kya
vo aaina hai to main us ke roo-b-roo ho jaaun

kisi tarah bhi ye veeraaniyaan hon khatm meri
sharaab-khaane ke andar ki haav-hoo jaaun

meri hatheli pe honton se aisi mohr laga
ki umr-bhar ke liye main bhi surkh-roo ho jaaun

kami zara si bhi mujh mein na koi rah jaaye
agar main zakham ki soorat hoon to rafu ho jaaun

naye mizaaj ke shehron mein jee nahin lagta
purane waqton ka phir se main lucknow ho jaaun

किसी ग़रीब की बरसों की आरज़ू हो जाऊँ
मैं इस सुरंग से निकलूँ तू आब-जू हो जाऊँ

बड़ा हसीन तक़द्दुस है उस के चेहरे पर
मैं उस की आँखों में झाँकूँ तो बा-वज़ू हो जाऊँ

मुझे पता तो चले मुझ में ऐब हैं क्या क्या
वो आइना है तो मैं उस के रू-ब-रू हो जाऊँ

किसी तरह भी ये वीरानियाँ हों ख़त्म मिरी
शराब-ख़ाने के अंदर की हाव-हू जाऊँ

मिरी हथेली पे होंटों से ऐसी मोहर लगा
कि उम्र-भर के लिए मैं भी सुर्ख़-रू हो जाऊँ

कमी ज़रा सी भी मुझ में न कोई रह जाए
अगर मैं ज़ख़्म की सूरत हूँ तो रफ़ू हो जाऊँ

नए मिज़ाज के शहरों में जी नहीं लगता
पुराने वक़्तों का फिर से मैं लखनऊ हो जाऊँ

- Munawwar Rana
2 Likes

Gareebi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Munawwar Rana

As you were reading Shayari by Munawwar Rana

Similar Writers

our suggestion based on Munawwar Rana

Similar Moods

As you were reading Gareebi Shayari Shayari