ye but jo ham ne dobara bana ke rakha hai | ये बुत जो हम ने दोबारा बना के रक्खा है - Munawwar Rana

ye but jo ham ne dobara bana ke rakha hai
isee ne ham ko tamasha bana ke rakha hai

vo kis tarah hamein ina'am se nawaazega
vo jis ne haathon ko qaasa bana ke rakha hai

yahan pe koi bachaane tumhein na aayega
samundron ne jazeera bana ke rakha hai

tamaam umr ka haasil hai ye hunar mera
ki main ne sheeshe ko heera bana ke rakha hai

kise kise abhi sajda-guzaar hona hai
ameer-e-shahr ne khaata bana ke rakha hai

main bach gaya to yaqeenan ye mo'jiza hoga
sabhi ne mujh ko nishaana bana ke rakha hai

koi bata de ye suraj ko ja ke ham ne bhi
shajar ko dhoop mein chaata bana ke rakha hai

ये बुत जो हम ने दोबारा बना के रक्खा है
इसी ने हम को तमाशा बना के रक्खा है

वो किस तरह हमें इनआ'म से नवाज़ेगा
वो जिस ने हाथों को कासा बना के रक्खा है

यहाँ पे कोई बचाने तुम्हें न आएगा
समुंदरों ने जज़ीरा बना के रक्खा है

तमाम उम्र का हासिल है ये हुनर मेरा
कि मैं ने शीशे को हीरा बना के रक्खा है

किसे किसे अभी सज्दा-गुज़ार होना है
अमीर-ए-शहर ने खाता बना के रक्खा है

मैं बच गया तो यक़ीनन ये मो'जिज़ा होगा
सभी ने मुझ को निशाना बना के रक्खा है

कोई बता दे ये सूरज को जा के हम ने भी
शजर को धूप में छाता बना के रक्खा है

- Munawwar Rana
2 Likes

Garmi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Munawwar Rana

As you were reading Shayari by Munawwar Rana

Similar Writers

our suggestion based on Munawwar Rana

Similar Moods

As you were reading Garmi Shayari Shayari