mujh ko gehraai mein mitti ki utar jaana hai | मुझ को गहराई में मिट्टी की उतर जाना है - Munawwar Rana

mujh ko gehraai mein mitti ki utar jaana hai
zindagi baandh le saamaan-e-safar jaana hai

ghar ki dahleez pe raushan hain vo bujhti aankhen
mujh ko mat rok mujhe laut ke ghar jaana hai

main vo mele mein bhatkata hua ik baccha hoon
jis ke maa baap ko rote hue mar jaana hai

zindagi taash ke patton ki tarah hai meri
aur patton ko bahr-haal bikhar jaana hai

ek be-naam se rishte ki tamannaa le kar
is kabootar ko kisi chat pe utar jaana hai

मुझ को गहराई में मिट्टी की उतर जाना है
ज़िंदगी बाँध ले सामान-ए-सफ़र जाना है

घर की दहलीज़ पे रौशन हैं वो बुझती आँखें
मुझ को मत रोक मुझे लौट के घर जाना है

मैं वो मेले में भटकता हुआ इक बच्चा हूँ
जिस के माँ बाप को रोते हुए मर जाना है

ज़िंदगी ताश के पत्तों की तरह है मेरी
और पत्तों को बहर-हाल बिखर जाना है

एक बे-नाम से रिश्ते की तमन्ना ले कर
इस कबूतर को किसी छत पे उतर जाना है

- Munawwar Rana
4 Likes

Ujaala Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Munawwar Rana

As you were reading Shayari by Munawwar Rana

Similar Writers

our suggestion based on Munawwar Rana

Similar Moods

As you were reading Ujaala Shayari Shayari