Meer Taqi Meer

Meer Taqi Meer

वो तुझे भूलें हैं तो तुझपे भी लाज़िम है 'मीर'
ख़ाक डाल, आग लगा, नाम न ले, याद न कर

  • Sher
  • Ghazal

LOAD MORE

More Writers like Meer Taqi Meer

How's your Mood?

Latest Blog

Upcoming Festivals