apni hi sada sunoon kahaan tak | अपनी ही सदा सुनूँ कहाँ तक - Parveen Shakir

apni hi sada sunoon kahaan tak
jungle ki hawa rahoon kahaan tak

har baar hawa na hogi dar par
har baar magar uthoon kahaan tak

dam ghatta hai ghar mein habs vo hai
khushboo ke liye rookoon kahaan tak

phir aa ke hawaaein khol denge
zakham apne rafu karoon kahaan tak

saahil pe samundron se bach kar
main naam tira likhoon kahaan tak

tanhaai ka ek ek lamha
hangaamon se qarz luun kahaan tak

gar lams nahin to lafz hi bhej
main tujh se juda rahoon kahaan tak

sukh se bhi to dosti kabhi ho
dukh se hi gale miloon kahaan tak

mansoob ho har kiran kisi se
apne hi liye jaloon kahaan tak

aanchal mere bhar ke phat rahe hain
phool us ke liye chunoon kahaan tak

अपनी ही सदा सुनूँ कहाँ तक
जंगल की हवा रहूँ कहाँ तक

हर बार हवा न होगी दर पर
हर बार मगर उठूँ कहाँ तक

दम घटता है घर में हब्स वो है
ख़ुश्बू के लिए रुकूँ कहाँ तक

फिर आ के हवाएँ खोल देंगी
ज़ख़्म अपने रफ़ू करूँ कहाँ तक

साहिल पे समुंदरों से बच कर
मैं नाम तिरा लिखूँ कहाँ तक

तन्हाई का एक एक लम्हा
हंगामों से क़र्ज़ लूँ कहाँ तक

गर लम्स नहीं तो लफ़्ज़ ही भेज
मैं तुझ से जुदा रहूँ कहाँ तक

सुख से भी तो दोस्ती कभी हो
दुख से ही गले मिलूँ कहाँ तक

मंसूब हो हर किरन किसी से
अपने ही लिए जलूँ कहाँ तक

आँचल मिरे भर के फट रहे हैं
फूल उस के लिए चुनूँ कहाँ तक

- Parveen Shakir
2 Likes

Hug Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Parveen Shakir

As you were reading Shayari by Parveen Shakir

Similar Writers

our suggestion based on Parveen Shakir

Similar Moods

As you were reading Hug Shayari Shayari