Prashant Beybaar

Prashant Beybaar

हमारे बीच में जो है, बचाके रखते हैं
अब एक दूजे से दूरी बनाके रखते हैं

  • Sher
  • Ghazal
  • Nazm

More Writers like Prashant Beybaar

How's your Mood?

Latest Blog

Upcoming Festivals