सब आसान हुआ जाता है  - Shariq Kaifi

सब आसान हुआ जाता है 
मुश्किल वक़्त तो अब आया है 

जिस दिन से वो जुदा हुआ है 
मैं ने जिस्म नहीं पहना है 

कोई दराड़ नहीं है शब में 
फिर ये उजाला सा कैसा है 

बरसों का बछड़ा हुआ साया 
अब आहट ले कर लौटा है 

अपने आप से डरने वाला 
किस पे भरोसा कर सकता है 

एक महाज़ पे हारे हैं हम 
ये रिश्ता क्या कम रिश्ता है 

क़ुर्ब का लम्हा तो यारों को 
चुप करने में गुज़र जाता है 

सूरज से शर्तें रखता हूँ 
घर में चराग़ नहीं जलता है 

दुख की बात तो ये है 'शारिक़' 
उस का वहम भी सच निकला है 

बरसों का बछड़ा हुआ साया 
अब आहट ले कर लौटा है 

अपने आप से डरने वाला 
किस पे भरोसा कर सकता है 

एक महाज़ पे हारे हैं हम 
ये रिश्ता क्या कम रिश्ता है 

क़ुर्ब का लम्हा तो यारों को 
चुप करने में गुज़र जाता है 

सूरज से शर्तें रखता हूँ 
घर में चराग़ नहीं जलता है 

दुख की बात तो ये है 'शारिक़' 
उस का वहम भी सच निकला है .

- Shariq Kaifi
0 Likes

Yaad Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Shariq Kaifi

As you were reading Shayari by Shariq Kaifi

Similar Writers

our suggestion based on Shariq Kaifi

Similar Moods

As you were reading Yaad Shayari Shayari