aaine ka saath pyaara tha kabhi | आइने का साथ प्यारा था कभी - Shariq Kaifi

aaine ka saath pyaara tha kabhi
ek chehre par guzaara tha kabhi

aaj sab kahte hain jis ko nakhuda
hum ne us ko paar utaara tha kabhi

ye mere ghar ki fazaa ko kiya hua
kab yahan mera tumhaara tha kabhi

tha magar sab kuch na tha dariya ke paar
is kinaare bhi kinaara tha kabhi

kaise tukdon mein use kar luun qubool
jo mera saare ka saara tha kabhi

aaj kitne gham hain rone ke liye
ik tire dukh ka sahaara tha kabhi

justuju itni bhi be-ma'ni na thi
manzilon ne bhi pukaara tha kabhi

ye naye gumraah kya jaanen mujhe
main safar ka isti'aara tha kabhi

ishq ke qisse na chhedo dosto
main isee maidaan mein haara tha kabhi

आइने का साथ प्यारा था कभी
एक चेहरे पर गुज़ारा था कभी

आज सब कहते हैं जिस को नाख़ुदा
हम ने उस को पार उतारा था कभी

ये मिरे घर की फ़ज़ा को किया हुआ
कब यहाँ मेरा तुम्हारा था कभी

था मगर सब कुछ न था दरिया के पार
इस किनारे भी किनारा था कभी

कैसे टुकड़ों में उसे कर लूँ क़ुबूल
जो मिरा सारे का सारा था कभी

आज कितने ग़म हैं रोने के लिए
इक तिरे दुख का सहारा था कभी

जुस्तुजू इतनी भी बे-मा'नी न थी
मंज़िलों ने भी पुकारा था कभी

ये नए गुमराह क्या जानें मुझे
मैं सफ़र का इस्तिआ'रा था कभी

इश्क़ के क़िस्से न छेड़ो दोस्तो
मैं इसी मैदाँ में हारा था कभी

- Shariq Kaifi
11 Likes

Chehra Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Shariq Kaifi

As you were reading Shayari by Shariq Kaifi

Similar Writers

our suggestion based on Shariq Kaifi

Similar Moods

As you were reading Chehra Shayari Shayari