Aarush Sarkaar

Aarush Sarkaar

ये सोचते हुए ही तो मुरझा गए हैं हम
गर हमसफ़र नहीं तो तेरे क्या लगे हैं हम

  • Sher
  • Ghazal

LOAD MORE

More Writers like Aarush Sarkaar

How's your Mood?

Latest Blog

Upcoming Festivals