junoon sar se utar gaya hai | जुनून सर से उतर गया है - Siraj Faisal Khan

junoon sar se utar gaya hai
vujood lekin bikhar gaya hai

bahut khasaara hai aashiqi mein
tamaam ilm-o-hunar gaya hai

main aur hi shakhs hoon koi ab
jo shakhs pehle tha mar gaya hai

bahut kada tha vo waqt mujh par
vo waqt lekin guzar gaya hai

siraaj ik khush-mizaj chehra
mujhe udaasi se bhar gaya hai

जुनून सर से उतर गया है
वजूद लेकिन बिखर गया है

बहुत ख़सारा है आशिक़ी में
तमाम इल्म-ओ-हुनर गया है

मैं और ही शख़्स हूँ कोई अब
जो शख़्स पहले था मर गया है

बहुत कड़ा था वो वक़्त मुझ पर
वो वक़्त लेकिन गुज़र गया है

'सिराज' इक ख़ुश-मिज़ाज चेहरा
मुझे उदासी से भर गया है

- Siraj Faisal Khan
1 Like

Udas Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Siraj Faisal Khan

As you were reading Shayari by Siraj Faisal Khan

Similar Writers

our suggestion based on Siraj Faisal Khan

Similar Moods

As you were reading Udas Shayari Shayari