tumhaare paas aate hain to saansen bheeg jaati hain | तुम्हारे पास आते हैं तो साँसें भीग जाती हैं - Aalok Shrivastav

tumhaare paas aate hain to saansen bheeg jaati hain
mohabbat itni milti hai ki aankhen bheeg jaati hain

tabassum itr jaisa hai hasi barsaat jaisi hai
vo jab bhi baat karti hai to baatein bheeg jaati hain

tumhaari yaad se dil mein ujaala hone lagta hai
tumhein jab gungunata hoon to raatein bheeg jaati hain

zameen ki god bharti hai to qudrat bhi chahakti hai
naye patton ki aahat se bhi shaakhen bheeg jaati hain

tire ehsaas ki khushboo hamesha taaza rahti hai
tiri rahmat ki baarish se muraadein bheeg jaati hain

तुम्हारे पास आते हैं तो साँसें भीग जाती हैं
मोहब्बत इतनी मिलती है कि आँखें भीग जाती हैं

तबस्सुम इत्र जैसा है हँसी बरसात जैसी है
वो जब भी बात करती है तो बातें भीग जाती हैं

तुम्हारी याद से दिल में उजाला होने लगता है
तुम्हें जब गुनगुनाता हूँ तो रातें भीग जाती हैं

ज़मीं की गोद भरती है तो क़ुदरत भी चहकती है
नए पत्तों की आहट से भी शाख़ें भीग जाती हैं

तिरे एहसास की ख़ुशबू हमेशा ताज़ा रहती है
तिरी रहमत की बारिश से मुरादें भीग जाती हैं

- Aalok Shrivastav
12 Likes

Promise Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Aalok Shrivastav

As you were reading Shayari by Aalok Shrivastav

Similar Writers

our suggestion based on Aalok Shrivastav

Similar Moods

As you were reading Promise Shayari Shayari