tu wafa kar ke bhool ja mujh ko | तू वफ़ा कर के भूल जा मुझ को - Aalok Shrivastav

tu wafa kar ke bhool ja mujh ko
ab zara yun bhi aazma mujh ko

ye zamaana bura nahin hai magar
apni nazaron se dekhna mujh ko

be-sada kaaghazon mein aag laga
aaj ki raat gunguna mujh ko

tujh ko kis kis mein dhoondhta aakhir
tu bhi kis kis se maangata mujh ko

ab kisi aur ka pujaari hai
jis ne maana tha devta mujh ko

तू वफ़ा कर के भूल जा मुझ को
अब ज़रा यूँ भी आज़मा मुझ को

ये ज़माना बुरा नहीं है मगर
अपनी नज़रों से देखना मुझ को

बे-सदा काग़ज़ों में आग लगा
आज की रात गुनगुना मुझ को

तुझ को किस किस में ढूँढता आख़िर
तू भी किस किस से माँगता मुझ को

अब किसी और का पुजारी है
जिस ने माना था देवता मुझ को

- Aalok Shrivastav
3 Likes

Good night Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Aalok Shrivastav

As you were reading Shayari by Aalok Shrivastav

Similar Writers

our suggestion based on Aalok Shrivastav

Similar Moods

As you were reading Good night Shayari Shayari