Ameer Minai

Ameer Minai

कश्तियाँ सब की किनारे पे पहुँच जाती हैं
नाख़ुदा जिन का नहीं उन का ख़ुदा होता है

  • Sher
  • Ghazal

LOAD MORE

More Writers like Ameer Minai

How's your Mood?

Latest Blog

Upcoming Festivals