hamesha zindagi ki har kami ko jeete rahte hain | हमेशा ज़िंदगी की हर कमी को जीते रहते हैं - Aalok Shrivastav

hamesha zindagi ki har kami ko jeete rahte hain
jise hum jee nahin paaye usi ko jeete rahte hain

hamaare dukh ki baarish ko koi daaman nahin milta
hamaari aankh ke baadal nami ko jeete rahte hain

kisi ke saath hain rasmen kisi ke saath hain qasmen
kisi ke saath jeena hai kisi ko jeete rahte hain

humein maaloom hai ik din bharosa toot jaayega
magar phir bhi saraabo mein nadi ko jeete rahte hain

hamaare saath chalti hai tumhaare pyaar ki khushboo
lagaaee thi jo tum ne us lagi ko jeete rahte hain

chahakte ghar mehakte khet aur vo gaav ki galiyaan
jinhen hum chhod aaye un sabhi ko jeete rahte hai

khuda ke naam-leva hum bhi hain tum bhi ho aur vo bhi
magar afsos sab apni khudi ko jeete rahte hain

हमेशा ज़िंदगी की हर कमी को जीते रहते हैं
जिसे हम जी नहीं पाए उसी को जीते रहते हैं

हमारे दुख की बारिश को कोई दामन नहीं मिलता
हमारी आँख के बादल नमी को जीते रहते हैं

किसी के साथ हैं रस्में किसी के साथ हैं क़समें
किसी के साथ जीना है किसी को जीते रहते हैं

हमें मालूम है इक दिन भरोसा टूट जाएगा
मगर फिर भी सराबों में नदी को जीते रहते हैं

हमारे साथ चलती है तुम्हारे प्यार की ख़ुशबू
लगाई थी जो तुम ने उस लगी को जीते रहते हैं

चहकते घर महकते खेत और वो गाँव की गलियाँ
जिन्हें हम छोड़ आए उन सभी को जीते रहते है

ख़ुदा के नाम-लेवा हम भी हैं तुम भी हो और वो भी
मगर अफ़सोस सब अपनी ख़ुदी को जीते रहते हैं

- Aalok Shrivastav
0 Likes

Nadii Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Aalok Shrivastav

As you were reading Shayari by Aalok Shrivastav

Similar Writers

our suggestion based on Aalok Shrivastav

Similar Moods

As you were reading Nadii Shayari Shayari