ye aur baat door rahe manzilon se ham | ये और बात दूर रहे मंज़िलों से हम - Aalok Shrivastav

ye aur baat door rahe manzilon se ham
bach kar chale hamesha magar qaafilon se ham

hone ko phir shikaar nayi uljhnon se ham
milte hain roz apne kai doston se ham

barson fareb khaate rahe doosron se ham
apni samajh mein aaye badi mushkilon se ham

manzil ki hai talab to hamein saath le chalo
waqif hain khoob raah ki bareekiyo se ham

jin ke paron pe subh ki khushboo ke rang hain
bachpan udhaar laaye hain un titliyon se ham

kuchh to hamaare beech kabhi dooriyaan bhi hon
tang aa gaye hain roz ki nazdeekiyon se ham

guzre hamaare ghar ki kisi raahguzaar se vo
parde hataayein dekhen unhen khidkiyon se ham

jab bhi kaha ki yaad hamaari kahaan unhen
pakde gaye hain theek tabhi hichkiyon se ham

ये और बात दूर रहे मंज़िलों से हम
बच कर चले हमेशा मगर क़ाफ़िलों से हम

होने को फिर शिकार नई उलझनों से हम
मिलते हैं रोज़ अपने कई दोस्तों से हम

बरसों फ़रेब खाते रहे दूसरों से हम
अपनी समझ में आए बड़ी मुश्किलों से हम

मंज़िल की है तलब तो हमें साथ ले चलो
वाक़िफ़ हैं ख़ूब राह की बारीकियों से हम

जिन के परों पे सुब्ह की ख़ुशबू के रंग हैं
बचपन उधार लाए हैं उन तितलियों से हम

कुछ तो हमारे बीच कभी दूरियाँ भी हों
तंग आ गए हैं रोज़ की नज़दीकियों से हम

गुज़रें हमारे घर की किसी रहगुज़र से वो
पर्दे हटाएँ देखें उन्हें खिड़कियों से हम

जब भी कहा कि याद हमारी कहाँ उन्हें
पकड़े गए हैं ठीक तभी हिचकियों से हम

- Aalok Shrivastav
5 Likes

Promise Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Aalok Shrivastav

As you were reading Shayari by Aalok Shrivastav

Similar Writers

our suggestion based on Aalok Shrivastav

Similar Moods

As you were reading Promise Shayari Shayari