jab bhi taqdeer ka halka sa ishaara hoga | जब भी तक़दीर का हल्का सा इशारा होगा - Aalok Shrivastav

jab bhi taqdeer ka halka sa ishaara hoga
aasmaan par kahi mera bhi sitaara hoga

dushmani neend se kar ke hoon pashemaani mein
kis tarah ab mere khwaabon ka guzaara hoga

muntazir jis ke liye hum hain kai sadiyon se
jaane kis daur mein vo shakhs hamaara hoga

main ne palkon ko chamakte hue dekha hai abhi
aaj aankhon mein koi khwaab tumhaara hoga

dil parastaar nahin apna pujaari bhi nahin
devta koi bhala kaise hamaara hoga

tez-rau apne qadam ho gaye patthar kaise
kaun hai kis ne mujhe aise pukaara hoga

जब भी तक़दीर का हल्का सा इशारा होगा
आसमाँ पर कहीं मेरा भी सितारा होगा

दुश्मनी नींद से कर के हूँ पशेमानी में
किस तरह अब मिरे ख़्वाबों का गुज़ारा होगा

मुंतज़िर जिस के लिए हम हैं कई सदियों से
जाने किस दौर में वो शख़्स हमारा होगा

मैं ने पलकों को चमकते हुए देखा है अभी
आज आँखों में कोई ख़्वाब तुम्हारा होगा

दिल परस्तार नहीं अपना पुजारी भी नहीं
देवता कोई भला कैसे हमारा होगा

तेज़-रौ अपने क़दम हो गए पत्थर कैसे
कौन है किस ने मुझे ऐसे पुकारा होगा

- Aalok Shrivastav
0 Likes

Khuda Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Aalok Shrivastav

As you were reading Shayari by Aalok Shrivastav

Similar Writers

our suggestion based on Aalok Shrivastav

Similar Moods

As you were reading Khuda Shayari Shayari