har baar hua hai jo wahi to nahin hoga | हर बार हुआ है जो वही तो नहीं होगा - Aalok Shrivastav

har baar hua hai jo wahi to nahin hoga
dar jis ka sataata hai abhi to nahin hoga

duniya ko chalo parkein naye dost banaayein
har shakhs zamaane mein wahi to nahin hoga

vo shakhs bada hai to galat ho nahin saka
duniya ko bharosa ye abhi to nahin hoga

hai us ka ishaara bhi samajhne ki zaroorat
hoga to kabhi hoga abhi to nahin hoga

do-chaar gadde murde ukhaadenge kisi roz
har baar naya jhagda kabhi to nahin hoga

kuch aur bhi ho saka hai taqreer ka matlab
jo aap ne samjha hai wahi to nahin hoga

har baar zamaane ka sitam hoga mujhi par
haan main hi badal jaaun kabhi to nahin hoga

हर बार हुआ है जो वही तो नहीं होगा
डर जिस का सताता है अभी तो नहीं होगा

दुनिया को चलो परखें नए दोस्त बनाएँ
हर शख़्स ज़माने में वही तो नहीं होगा

वो शख़्स बड़ा है तो ग़लत हो नहीं सकता
दुनिया को भरोसा ये अभी तो नहीं होगा

है उस का इशारा भी समझने की ज़रूरत
होगा तो कभी होगा अभी तो नहीं होगा

दो-चार गड़े मुर्दे उखाड़ेंगे किसी रोज़
हर बार नया झगड़ा कभी तो नहीं होगा

कुछ और भी हो सकता है तक़रीर का मतलब
जो आप ने समझा है वही तो नहीं होगा

हर बार ज़माने का सितम होगा मुझी पर
हाँ मैं ही बदल जाऊँ कभी तो नहीं होगा

- Aalok Shrivastav
1 Like

Fasad Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Aalok Shrivastav

As you were reading Shayari by Aalok Shrivastav

Similar Writers

our suggestion based on Aalok Shrivastav

Similar Moods

As you were reading Fasad Shayari Shayari