Atul Kumar Rai

Atul Kumar Rai

लटकन झटकन ओढ़ मटकते एक परी का दिख जाना,
प्लेन गुजरने पर बचपन के खुश होने सा लगता है!

बिन्दी, लिपस्टिक, चूड़ी, कंगन और किनारा साड़ी का,
लाल कलर पर कब्ज़ा अय हय कितना अच्छा लगता है!

  • Sher
  • Ghazal

LOAD MORE

More Writers like Atul Kumar Rai

How's your Mood?

Latest Blog

Upcoming Festivals