har ek lafz ke tevar hi aur hote hain | हर एक लफ़्ज़ के तेवर ही और होते हैं - Abrar Kashif

har ek lafz ke tevar hi aur hote hain
tere nagar ke sukhanvar hi aur hote hain

tumhaari aankhon mein vo baat hi nahin ai dost
dubone waale samandar hi aur hote hain

हर एक लफ़्ज़ के तेवर ही और होते हैं
तेरे नगर के सुख़नवर ही और होते हैं

तुम्हारी आँखों में वो बात ही नहीं ऐ दोस्त
डुबोने वाले समंदर ही और होते हैं

- Abrar Kashif
37 Likes

Nature Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Abrar Kashif

As you were reading Shayari by Abrar Kashif

Similar Writers

our suggestion based on Abrar Kashif

Similar Moods

As you were reading Nature Shayari Shayari